श्री वकरेश्वर पंडित कौन थे?
श्री वक्रेश्वर पंडित का उल्लेख श्री चैतन्य-चरितमृत में उनके परमानंद नृत्य के लिए किया गया है। एक बार, श्रीवास ठाकुर के घर में, उन्होंने बहत्तर घंटे तक निरंतर परमानंद में नृत्य किया। उन्होंने कई शिष्य बनाए, विशेष रूप से उड़ीसा में, उनमें से श्री गोपाल-गुरु गोस्वामी मुख्य थे। शास्त्र के अनुसार, वक्रेश्वर पंडित अनिरुद्ध के अवतार थे, जो विष्णु (वासुदेव, संकर्षण, अनिरुद्ध और प्रद्युम्न) के चार विस्तारों में से एक थे।
हरे कृष्णा

Your email address will not be published.

YouTube
YouTube
Pinterest
Pinterest
fb-share-icon
WhatsApp
Call ISKCON Jabalpur